Saturday 23 April 2011

इसलिए मुझे जन लोकपाल बिल चाहिए /

मैं भारत का आम नागरिक हूँ / मैं ये नहीं चाहता की मेरे हक का हिस्सा कोई जन प्रतिनिधि हजम कर जाए / मैं ये चाहता हूँ की मेरे गाँव मेरे शहर मेरे मोहल्ले के विकाश के लिए जो रकम निश्चित की गयी हैं वो उसी में लगायी जाए / दिल्ली से एक रूपया चले तो मेरे तक पहुचने के बाद भी वो एक रूपया ही रहे / मेरे हक के पैसो में किसी की सेंध मुझे बर्दाश्त नहीं हैं / इसलिए मुझे जन लोकपाल बिल चाहिए /

मैं भारत का आम नागरिक हूँ / मुझे अपने बच्चो को अच्छी शिक्षा दिलाने के लिए विद्यालयों में उनका प्रवेश चाहिए, बिना रिश्वत / इसलिए मुझे जन लोकपाल बिल चाहिए /

मैं भारत का आम नागरिक हूँ / मुझे अपने व्यवसाय को पंजीकृत करवाने के लिए विक्री कर विभाग में रिश्वत नहीं देनी हैं / इसलिए मुझे जन लोकपाल बिल चाहिए /

मैं भारत का आम नागरिक हूँ / हमारे देश का कर चोरी करके विदेशो में धन जमा करने की प्रवृति में रोक लगनी चाहिए / काले धन की पैदाइश में रोक लगनी चाहिए / इसलिए मुझे जन लोकपाल बिल चाहिए /

मैं भारत का आम नागरिक हूँ / सार्वजनिक वितरण प्रणाली के द्वारा जो रासन तेल हमें मिलना चाहिए उसकी कालाबाजारी नहीं होनी चाहिए / इसलिए हमें जन लोकपाल बिल चाहिए /

मैं भारत का आम नागरिक हूँ / मुझे अपने घर, व्यवसाय या खेत में बिजली का कनेक्सन लेने के लिए रिश्वत न देनी पड़े / इस लिए मुझे जन लोकपाल बिल चाहिए /

कृपया आपको क्यूँ चाहिए जन लोकपाल बिल अपने कमेन्ट भी दीजिये /

7 comments:

हल्ला बोल said...

धार्मिक मुद्दों पर परिचर्चा करने से आप घबराते क्यों है, आप अच्छी तरह जानते हैं बिना बात किये विवाद ख़त्म नहीं होते. धार्मिक चर्चाओ का पहला मंच ,
यदि आप भारत माँ के सच्चे सपूत है. धर्म का पालन करने वाले हिन्दू हैं तो
आईये " हल्ला बोल" के समर्थक बनकर धर्म और देश की आवाज़ बुलंद कीजिये...
अपने लेख को हिन्दुओ की आवाज़ बनायें.
इस ब्लॉग के लेखक बनने के लिए. हमें इ-मेल करें.
हमारा पता है.... hindukiawaz@gmail.com
समय मिले तो इस पोस्ट को देखकर अपने विचार अवश्य दे
देशभक्त हिन्दू ब्लोगरो का पहला साझा मंच
हल्ला बोल

वन्दना अवस्थी दुबे said...

लोकपाल बिल निश्चित रूप से हमें भी इन्हीं कारणों से चाहिये. लेकिन आपको लगता है कि केवल बिल बन जाने से भ्रष्टाचार खत्म हो जायेगा?

Rajesh Sharma said...

वंदना जी आपका मेरे चिट्ठे तक आने के लिए धन्यवाद / निश्चित रूप से लोकपाल बिल बनने भर से ही भ्रष्टाचार खत्म नहीं हो सकता / लेकिन लोकपाल बिल पारित होने के बाद भ्रष्टाचार के खिलाफ जंग में एक नया हथियार जनता के हाथ आ जायेगा ऐसा मेरा दृढ विश्वाश हैं / सूचना के अधिकार से पहले हम सोच भी नहीं सकते थे की इसके जरिये इतने घपले घोटाले उजागर हो सकते हैं , कानून आया तो कुछ तो फर्क हुआ हैं न ? आप सभी का सहयोग अपेक्षित हैं भ्रष्टाचार के खिलाफ इस महायुद्ध में /
पुन: धन्यवाद /

अविनाश वाचस्पति said...

क्‍या आपको ऐसा महसूस होता है कि आपकी चाहत पूरी होगी।

Rajesh said...

अविनाश जी, आपका हार्दिक धन्यवाद / लोकपाल बिल पारित तो करना ही पड़ेगा इसमें मुझे कोई शक नहीं हैं / लेकिन शातिर चोरो की जमात अपने बचाव का रास्ता निकलने का भरपूर प्रयास करेगी / लोकपाल बिल पारित होने के बाद हमें चौकन्ना रहना होगा और भ्रष्टाचारियो को पकड़ पकड़ के इसके फंदे में डालना होगा मतलब जनता को जागरूक होना पड़ेगा / हो सकता है वक़्त लगे पर मेरी चाहत पूरी होगी और मुझे विश्वाश हैं की आपकी चाहत भी यही हैं /

राम अवतार ईनाणियाँ said...

सांसदो एव जजो को भी लोकपाल मे आना चाहिय क्योकि सबसे ज्यादा चोर तो यहि होते है ।

वनमानुष said...

लोकपाल यदि भ्रष्ट हुए तो क्या कीजियेगा?उसके ऊपर भी लोकपाल बिठाएंगे?
मेरी मानिए तो अपनी पूर्व-प्रदत्त संवैधानिक शक्तियों का प्रयोग करना सीखिए,लोकपाल किसी के घर का द्वारपाल नहीं,प्रत्येक व्यक्ति को निजी और सार्वजनिक स्तर पर स्वयं भ्रष्टाचार से लड़ना होगा.